तुहीं बतावऽ

Dr.Ashok Dvivedi

– डा॰अशोक द्विवेदी

तुहीं बतावऽ जागी कबलें
केकरा खातिर रात-रात भर?
खाए के बा अखरा रोटी
सूते के बा घास-पात पर!
तुहीं बतावऽ जागी कबलें
केकरा खातिर रात-रात भर?

अपना खातिर, तोहरा खातिर
भा अझुराइल सपना खातिर
विघटब-टूटन-फिसलन वाला
नव समाज के रचना खातिर?
जागत-जागत, मन रिसिआला
जर भुन जाला बात-बात पर!
तुहीं बतावऽ जागी कबलें
केकरा खातिर रात-रात भर?

राजनीति, नित नया तमासा
करे न कुछऊ, देले झाँसा
सत्ता से बा दूध-मलाई
जनता के छितराइल आसा
मंत्री, सैनिक, छुद्र पियादा
राजा खातिर बा बिसात पर!
तुहीं बतावऽ जागी कबलें
केकरा खातिर रात-रात भर?

केकरा खातिर जगल कबीरा
केकरा धुन में जोगिन मीरा
केकरा मंगल खातिर तुलसी
मानस रचलन, सहि-सहि पीरा
जोति जरवलन, भितरी-बहरी,
अपना कवना हीत-नात पर?
तुहीं बतावऽ जागी कबलें
केकरा खातिर रात-रात भर?

लुत्ती से सुनुगे ना आगी
राग रुचे ना, भइल विरागी
दिवस-रैन, जुग सरिस बुझाता
जागत अँखिया, कतना जागी
के रोकी, के नजर गड़ाई
होखे वाला भितरघात पर?
तुहीं बतावऽ जागी कबलें
केकरा खातिर रात-रात भर?


टैगोर नगर, सिविल लाइन्स बलिया – 277001
फोन – 08004375093
ashok.dvivedi@rediffmail.com

Advertisements

One thought on “तुहीं बतावऽ

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s