भारत के सबले लमहर रोड शो चलावत बावे अंजन टी वी

भोजपुरी मनोरंजन के क्षेत्र में भावी युग के अंजन टी.वी. चैनल भारत के मनोरंजन इंडस्ट्री के इतिहास में सबले लमहर रोड शो चलावत बा. एह रोड शो में उत्तर प्रदेश, बिहार आ झारखंड के शहर अंजन टी.वी. के लय पर झूमीहें सँ. 22 अगस्त से शुरू भइल ई रोड शो उत्तर प्रदेश के अनेके शहरन से गुजरत चालीस दिन ले सफर करी.

अंजन टी वी के चैनल के हेड मंजीत हंस के कहना बा कि जबहीं हमनी का कवनो बड़का आयोजन करीलें त एक एक आदमी के आशीर्वाद के कामना करीलें. एह रोड शो से हमनी का उत्तर प्रदेश, बिहार आ झारखण्ड के लोगन से आशीर्वाद लिहल चाहत बानी. चालीस दिन के एह रोड शो में ५००० किलोमीटर के सफर का दौरान चालीस गो शहर अइहें सँ. कहलन कि ई रोड शो ३० सितम्बर के खतम होखी. एह शो से चैनल अपना सगरी दर्शकन से स्थाई जुड़ाव स्थापित करे चाहत बा. सजल सजावल बड़का बड़का ट्रक, ट्राली आ स्टाइलदार जीप तय शहर के गलियन, सड़कन आ मुख्य जगहन पर नजर अइहें सँ. एह रोड शो में लाइव कार्यक्रम, प्रतियोगिता आ उपहार बाँटल मुख्य आकर्षण होखी.

अँजन टी.वी. के प्रबंध निदेशक दीपक राज भंडारी कहलें कि ऊ चैनल खातिर वइसने भावपूर्ण प्रतिक्रिया के लालसा राखत बाड़न जवन एह विशाल रोड शो से मिले के आशा बा.

पिछला २४ अगस्त के मुंबई में अंजन टीवी के लौन्चिंग भइल रहे.


(उदय भगत के रपट)

भोजपुरी के एगो नया मनोरंजन चैनल अंजन टीवी

भोजपुरी मनोरंजन के मैदान में क्रांति करे का दिसाईं एगो नया मनोरंजन चैनल डेग बढ़वले बा. भोजपुरी के ई दुसरका मनोरंजन चैनल होखी बाकिर एकर कार्यक्रम के अंदाज अलगे तरह के होखे वाला बा. अंजन टीवी नाम के एह चैनल पर के हर कार्यक्रम संदेशपरक होखी.

अंजन टीवी के चैनल हेड मंजीत हंस के कहना बा कि उनुका चैनल के उद्देश्य दर्शकन के मनोरंजने करल ना, बलुक बल्कि स्वस्थ मनोरंजन कइल बा. एहसे कार्यक्रम बनावत घरी एह बात पर खास ध्यान दिहल गइल बा कि समाज के हर वर्ग के लोग एकर आनंद ले सकसु. अंजन टीवी पर योग, संगीत, फिल्म, धारावाहिक, ट्रेवल, भक्ति, रियलिटी शो, कोमेडी शो, लाइफ स्टाइल आ खाना खजाना से जुड़ल कार्यक्रम पेश होखी आ एह कार्यक्रमन के भोजपुरी फिल्म जगत के कलाकार होस्ट करीहें.

अंजन चैनल के टेग लाइन “जियो हर पल” का बारे में चैनल हेड मंजीत हंस बतवलें कि ई आध्यात्म से जुडल बा आ संदेश देत बा कि जीवन अनमोल ह, एकरा के खुशी, आपसी भाईचारा आ चेहरा पर मुस्कान लिहले बितावे चाहीं. कहलन कि चैनल के लोगो में त्रिनेत्रो के झलक मिलत बा. कहलन कि उत्तर भारत के लोगन के ओह लोग का अपना भाषा में बढ़िया कार्यक्रम दिहले चैनल के अकेला मकसद बा.


(स्रोत – अंजन टीवी)

मनोज भावुक अउर श्वेता तिवारी के बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड

मनोज भावुक के बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड (मेल) अउर श्वेता तिवारी के बेस्ट टीवी एंकर अवार्ड (फीमेल) से सम्मानित कइल गइल . इ सम्मान एह लोग के पूर्वांचल एकता मंच द्वारा दिल्ली में आयोजित ६ठवां विश्व भोजपुरी सम्मेलन में दिहल गइल . एह अवसर पर हिन्दी आ भोजपुरी सिनेमा जगत के कई गो बड हस्ती सुनील सेट्टी, कुणाल सिंह, राजकुमार आर पाण्डेय, असलम शेख, कानू मुखर्जी, रानी चटर्जी, रिंकू घोष, संगीता तिवारी, स्मृति सिन्हा, सीमा सिंह, प्रिया शर्मा, सुजीत पुरी, अजय दीक्षित, सुदीप पाण्डेय, चिंटू पाण्डेय अउर संगीत जगत से उदित नारायण, भरत शर्मा व्यास, मालिनी अवस्थी, देवी, इन्दू सोनाली आ अजीत आनंद आदि मौजूद रहलें .

एह दो दिवसीय विश्व भोजपुरी सम्मेलन के उदघाटन लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार कइली. एह आयोजन में पहिला बार सिनेमा पर अइसन अद्भुत विशेष सत्र आयोजित कइल गइल रहे जवना में लाखो के भीड़ में फिल्म समीक्षक मनोज भावुक द्वारा निर्मित भोजपुरी सिनेमा के 50 साल के सफ़र पर एगो डोक्युमेंट्री भी देखावाल गइल जवना के फिल्मकार आ दर्शक लोग खूब पसंद कइलें . कार्यक्रम के सफल संचालन मनोज भावुक आ श्वेता तिवारी कइली .

स्रोत ईमेल से

‘सुरो का महासंग्राम’ में अपना राज्य के नेतृत्व पावे के लड़ाई

एह हफ्ता महुआ टी॰ वी॰ पर प्रसारित ‘सुरो के महासंग्राम’ का एपिसोड में राज्य के टीम में चुनाये के लड़ाई देखावल गइल. देख के लागल कि कइसन कइसन अनगढ़ हीरा ले के एह शो के शुरुआत होखत बा आ धीरे धीरे उहे अनगढ़ हीरा पालिश्ड हो के कतना चमकदार बन जइहें इहो देखे लायक रही. शो में जवन बात सबले चटक लउकल ऊ कि बहुते प्रतिभागी वइसन गाना चुनत रहले जवना के आम आदमी के अपना परिवार का बीच बइठ सुने में अहस लागी. सोचे लगनी कि एह हालात के जिम्मेदार केकरा के मानल जाव. गायक गायिका त बस दोसरा के लिखला के आपन आवाज भर दे देलें. फूहड़ गीत लिखे के असल दोष त ओह गीतकारन के दिहला के जरूरत बा. ना त ऊ लिखते ना केहु गाइत. बाकिर कहल जा सकेला कि फूहड़ गीतन के लोकप्रियता दिआवे में गायक गायिको लोग के हाथ होला जे अपना आवाज के गलत इस्तेमाल करत वइसनका गीत के लोकप्रियता दिआवे के कोशिश करेले. घर में बाजे चाहे ना, ट्रक, ट्रैक्टर, टैक्सी रेला ठेला में वइसन गीत खूब सुने के मिल जाला काहे कि हमनी के सुभाव हो गइल बा कि भीड़ का बीच हमनी का आदमी ना रहि जाईं.

खैर देखनी कि जब कबो वइसन गीत आवत रहे त मंच पर बइठल निर्णायक लोग इशारा से रोक देत रहे आ कहत रहे कि कूछ अउर गावऽ. एह हफ्ता के मेगा आडिशन में सब कुछ बहुते अनौपचारिक जइसन लागल. एह मेगा आडिशन से चुनाइल लोग अगिला हफ्ता से होखे वाला प्रतियोगिता में प्रतिभागी बनीहे. शो के एंकर भा सूत्रधार मनोज तिवारी बाड़े. प्रतिभागियन के चुने वाला निर्णायक मण्डल में संगीतकार सतीश, अजय आ धनंजय मिश्रा रहले.

भोजपुरी के सबले बड़ ताकत एकर गीत गवनई हवे काहेकि एही सहारे भोजपुरी आम आदमी का बीच रचे बसेले. उमीद कइल जाव कि महुआ टीवी भोजपुरी गीत गवनई के चमकदार पहलू सामने ले आई आ फूहड़ गीतन के प्रतियोगिता से बाहर राखी. हँ भोजपुरी गीत गवनई से रसिक अंदाज के हटावल ना जा सके आ ओकरा बिना भोजपुरी गीत गवनई भजन बनि के रहि जाई इहो साँच बा.

सुरों का महासंग्राम महुआ टी॰ वी॰ पर हर शुक आ शनिचर के रात 8.00 बजे से होखत बा.


(प्रशांत निशांत के भेजल रपट का आधार पर)

महुआ पर 3 फरवरी से शुरू होखी ‘सुरो का महासंग्राम’

एक बेर फेर सजी गीत गवनई के मंच, आपन कला देखइहें बिहार, यू॰पी॰ आ झारखण्ड के सुरवीर. ई शो देखल जाई 3 फरवरी से ‘महुआ टी॰वी॰’ पर. ‘सुर संग्राम’ के दू गो शानदार सीजन का बाद महुआ टी॰वी॰ ले के आइल बा ‘सुरो का महासंग्राम’ आ फेर देश के उभरत गवनिहारन का बीच एगो जंग मची. देश के 5 राज्यन में कुल एक दर्जन शहरन में करावल आडिशन में करीब 50 हजार प्रतिभागी शामिल भइल रहले. ओही में से चुनल 36 गायकन के फौज उतरी ‘सुरो का महासंग्राम’ में.

भोजपुरी सभ्यता आ संस्कृति से जुड़ल गीत-गवनई का साथही पोपुलर फिल्मी गीतन आ पारंपरिक लोक गीतन के सुने के मौका मिले जात बा दर्शकन के. पहिला दू दिन, 3 आ 4 फरवरी के दर्जन भर शहरन में करावल आडिशन के झलकी देखावल जाई. एह शो के एंकर बनावल गइल बाड़े मनोज तिवारी मृदुल जे मंच पर भगवान कृष्ण का भूमिका में होखीहें आ तीनो राज्यन के प्रतिभागियन के जंग सम्हारे के काम करीहें.

बतौर जज रहीहे मशहुर लोक गायिका कल्पना आ भोजपुरी सिनेमा के सदाबहार अभिनेत्री ‘नंदिया के पार’ के गुंजा साधना सिंह. शो के निर्माण मशहूर फिल्म निर्माता अभय सिन्हा के कंपनी यशी फिल्म्स कइले बिया.

‘सुरों के महासंग्राम’ शो के समय रही हर शुक आ शनिचर के रात आठ बजे से.


(महुआ टीवी के पीआरओ प्रशांत निशांत के रपट)

रघुवीर शरण श्रीवास्तव के सुर संग्राम २ के विजेता बनवलसि महुआ

पिछला दिने बिना कवनो पूर्व सूचना के भा तामझाम के महुआ टीवी का नोएडा आफिस में गवनई के रियलिटी शो “सुर संग्राम सीजन – 2” के विजेता के फैसला कर लिहल गइल. एह बात के जानकारी महुआ टीवी के पीआरओ प्रशान्त निशान्त से मिलल बा. कवना आधार पर एकर फैसला लिहल गइल ओकरा बारे में कवनो जानकारी नइखे दिहल गइल.

“सुर संग्राम सीजन २” के विजेता के फैसला २० दिसम्बर २०१० के होखे वाला रहुवे. पटना के गाँधी मैदान में भव्य समारोह आयोजित भइल बाकिर कुछ असामाजिक तत्वन का उपद्रव का चलते आयोजन रोक के रद्द कर देबे के पड़ल. फाइनल में बनारस के गायक रघुवीर शरण श्रीवास्तव आ राँची के गायिका ममता राउत का बीच मुकाबिला रहुवे. अब करीब तेरह महीना बाद ओह फाइनल के फैसला महुआ टीवी के नोएडा कार्यालय में कर दिहल गइल.

बतावल गइल बा कि रघुवीर के पचीस लाख रुपिया आ ममता राउत के एगारह लाख रुपिया के इनाम दे दिहल गइल.

अब जब सुर संग्राम सीजन २ के फाइनल हो गइल त महुआ टीवी के नयका रियलिटी शो “सुरों का महासंग्राम” के राह खुल गइल. एह शो के आडीशन के प्रक्रिया पूरा हो गइल बा.

सुरों का महासंग्राम के आडिशन

– प्रशांत निशांत


७ जनवरी २०१२ का दिने बलिया का आर॰डी॰पब्लिक स्कूल, सुखलपुरा, धरहरा में सबेरे साढ़े एगारह से साँझ चार बजे ले, साते जनवरी के पटना में यशी फिल्म्स एंड टेलीविजन इंस्टीच्यूट, श्रीकृष्णनगर, किदवईपुरी में, आ ओही दिने राँची में सत्यभारती, पुरुलिया रोड पर, आ ९ जनवरी २०१२ का दिने बनारस के पढेरकर स्मृति भवन, गोलघर, मैदागिन चौराहा का लगे करावल जाई.

जमशेदपुर, धनबाद, मुजफ्फरपुर, सिवान, लखनऊ आ गोरखपुर के आडिशन पिछला दिने हो चुकल बा.

एह ऑडिशन में शामिल होखे खातिर उमिर के सीमा बान्हल गइल बा चौदह साल से तीस साल का बीच.

आडिशन में शामिल होखे खातिर प्रतिभागियन के आपन आवासीय प्रमाणपत्र, उमिर के प्रमाण पत्र आ दू गो पासपोर्ट साइज फोटो का साथे आपन रजिस्ट्रेशन करवावे के पड़ी. रजिस्ट्रेशन आडिशन स्थले पर कइल जाई. आवासीय प्रमाणपत्र बिहार, झारखण्ड भा उत्तर प्रदेश के होखे के चाहीं.

पहिला राउण्ड में चुनइला का बाद प्रतिभागियन के फेरू फाइनल राउण्ड पार करे के पड़ी.

एगो पाठक नीरज का बहाने

काल्हु अँजोरिया के एगो सम्मानित पाठक नीरज जी जानल चहले कि सुर के महासंग्राम के आडिशन पटना में कहिया होखी? उनुका सवाल के जवाब लिखे बइठनी त बहुत कुछ अइसन लिखा गइल कि सोचनी कि एकरा के अलगे पोस्ट कर दीं.

पता ना का चाहत बावे महुआ टीवी चैनल आ का मन में बावे ओकरा प्रचारक के. महुआ टीवी के अपनो वेबसाइट पर एह बारे में कवनो जानकारी नइखे. जवने जानकारी बा तवन महुआ टीवी चैनल पर. बइठ जाईं ओकरा आगा कलम कागज लेके आ जब एह महासंग्राम के जानकारी आवे तब लिख लीं.

सुर संग्राम एक आ दू के मिलल सफलता का बाद होखे के त ई चाहत रहे कि सुरसंग्राम तीन करावल जाव बाकिर शायद एहले नइखे करावल जात कि अबही ले सुर संग्राम दू के फाइनल नइखे हो पावल. जज लोग आ अंकर लोग के भुगतान के विवाद अलगा बा.

एही सब का चलते हम कई बेर कह चुकल बानी कि महुआ भा कवनो टीवी चैनल, कवनो संगीत कंपनी, कवनो फिल्म, कवनो फिल्मकार से अँजोरिया वेबसमूह के कवनो संबंध नइखे. प्रचारकन से मिले वाला जानकारी रउरा सभे तक चहुँपा दिहिले काहे कि अँजोरिया समूह हमेशा भोजपुरी आ एह भाषा में काम करे वालन के बढ़ावा देत आइल बा, देत आवत रही. अँजोरिया समूह के प्रकाशन बलिया से कइल जाला जहवाँ टीवी भा सिनेमा भा संगीत का बारे में कवनो जानकारी ले पावल मुश्किल होला. दोसरे भोजपुरी के वेबसाइटन के प्रकाशन आर्थिक सक्षम नइखन स कि आपन संवाददाता आ आपन ब्यूरो चलावल जा सके.

एह दिसाईं पाठक लोग के सक्रिय सहयोग के अपेक्षा रहेला कि ऊ लोग अपना स्रोत से मिलल जानकारी के बाकी पाठकन से मिल बाँटे लोग. अगर अइसन होखे लाग जाव त सिनेमा आ टीवी चैनल का बारे में सही सही जानकारियो मिल पाई. बाकिर रउरा सभे बानी कि कुछ बाँटे के तइयारे नइखीं. आइलें, जवन मिलल तवना के देखनी, पढ़नी आ चल दिहनी बिना कुछ कहले, बिना कवनो टिप्पणी मरले.

घरो में आदमी खाना खाला त ओकरा बारे में अगर टिप्पणी ना करे त रसोईया के मन टूटेला. ना विश्वास होखे त अपने घर में पूछ लीं. सामने वाला चटखारा ले के खाय, बड़ाई करे त बनावे परोसे वाला के आनन्द मिलेला आ काम के थकान खतम हो जाला. अगर खराब लागल भा पसन्द ना आइल तबहियो बतावल जरूरी होला जेहसे कि रसोईया अगिला बेर सचेत रहो.

हमार काम रसोईये जइसन बा. टिप्पणी दिहल राउर काम होखे के चाहीं. रोजाना नाहियों त चार सौ लोग जरूरे आवत होई अँजोरिया पर ओहमें से चालीसो पचास लोग टिप्पणि देबे लागे तब भोजपुरी आ एह से जुड़ल लोगन के काम में गुणात्मक परिवर्तन अइला बिना ना रही.

बाकी राउर मरजी.

राउर,
संपादक, अँजोरिया

"सुरों का महासंग्राम" खातिर लखनऊ में ऑडिशन 3 जनवरी के

– प्रशांत निशांत

भोजपुरिया गीत गवनई के शौकीन लोग का मन में आपन खास पहिचान आ जगहा बना चुकल ‘‘महुआ टी. वी.’’ अब भोजपुरिया सुरवीरन खातिर ‘‘सुर संग्राम’’ के भारी सफलता का बाद ‘‘सुरों का महासंग्राम’’ ले के आवत बा.

“सुरों का महासंग्राम” में अबकी बिहार, झारखण्ड आ उत्तर प्रदेश के उभरत गायक गायिका लोग का बीचे गवनई के जंग मची. तीन जनवरी से एह शो खातिर प्रतिभागी चुने के काम लखनऊ से शुरू होखे जा रहल बा. लखनऊ में ऑडिशन राउण्ड के जगहा तय भइल बा स्वयंवर मैरिज हॉल, भवानी बाजार, गोल चौराहा, जानकीपुरम, लखनऊ.

एह ऑडिशन में मशहूर संगीतकार जोड़ी सतीश-अजय के अजय, महुआ टी. वी. के विनीता उपाध्याय आ अभिषेक प्रतिभागियन के चयन करीहें. एह आ एकरा बाद के बाकी जगहा के ऑडिशन में शामिल होखे खातिर उमिर के सीमा बान्हल गइल बा चौदह साल से तीस साल का बीच.

आडिशन में शामिल होखे खातिर प्रतिभागियन के आपन आवासीय प्रमाणपत्र, उमिर के प्रमाण पत्र आ दू गो पासपोर्ट साइज फोटो का साथे आपन रजिस्ट्रेशन करवावे के पड़ी. रजिस्ट्रेशन आडिशन स्थले पर कइल जाई. आवासीय प्रमाणपत्र बिहार, झारखण्ड भा उत्तर प्रदेश के होखे के चाहीं.

पहिला राउण्ड में चुनइला का बाद प्रतिभागियन के फेरू फाइनल राउण्ड पार करे के पड़ी.

“सुरों का महासंग्राम” खातिर लखनऊ में ऑडिशन 3 जनवरी के

– प्रशांत निशांत

भोजपुरिया गीत गवनई के शौकीन लोग का मन में आपन खास पहिचान आ जगहा बना चुकल ‘‘महुआ टी. वी.’’ अब भोजपुरिया सुरवीरन खातिर ‘‘सुर संग्राम’’ के भारी सफलता का बाद ‘‘सुरों का महासंग्राम’’ ले के आवत बा.

“सुरों का महासंग्राम” में अबकी बिहार, झारखण्ड आ उत्तर प्रदेश के उभरत गायक गायिका लोग का बीचे गवनई के जंग मची. तीन जनवरी से एह शो खातिर प्रतिभागी चुने के काम लखनऊ से शुरू होखे जा रहल बा. लखनऊ में ऑडिशन राउण्ड के जगहा तय भइल बा स्वयंवर मैरिज हॉल, भवानी बाजार, गोल चौराहा, जानकीपुरम, लखनऊ.

एह ऑडिशन में मशहूर संगीतकार जोड़ी सतीश-अजय के अजय, महुआ टी. वी. के विनीता उपाध्याय आ अभिषेक प्रतिभागियन के चयन करीहें. एह आ एकरा बाद के बाकी जगहा के ऑडिशन में शामिल होखे खातिर उमिर के सीमा बान्हल गइल बा चौदह साल से तीस साल का बीच.

आडिशन में शामिल होखे खातिर प्रतिभागियन के आपन आवासीय प्रमाणपत्र, उमिर के प्रमाण पत्र आ दू गो पासपोर्ट साइज फोटो का साथे आपन रजिस्ट्रेशन करवावे के पड़ी. रजिस्ट्रेशन आडिशन स्थले पर कइल जाई. आवासीय प्रमाणपत्र बिहार, झारखण्ड भा उत्तर प्रदेश के होखे के चाहीं.

पहिला राउण्ड में चुनइला का बाद प्रतिभागियन के फेरू फाइनल राउण्ड पार करे के पड़ी.