राष्ट्रपति चुनाव के परचा दाखिल कइलें मुखर्जी आ संगमा

बियफे का दिने यूपीए के उम्मीदवार प्रणव मुखर्जी आ भाजपा समर्थित उम्मीदवार पी॰ए॰ संगमा आपन आपन परचा दाखिल कर दिहलें. एह मौका पर दुनु जने का साथे ओह लोग के समर्थक राजनेता मौजूद रहलें. संगमा के उमेद बा कि सांसद आ विधायक अपना अंतरात्मा का आवाज पर वोट दीहें काहे कि एह चुनाव में पार्टी के ह्विप ना जारी होखे आ सांसद विधायक अपना मनमर्जी के उम्मीदवार के वोट दे सकेलें. एकर सबसे पहिले इस्तेमाल इंदिरा गाँधी करवले रही जब ऊ अपने पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के हरवावे खातिर सभका से अंतरात्मा के आवाज पर वोट देबे के कहले रही. अबकी का चुनाव में यूपीए, एनडीए आ वाम मोर्चा तीनों में फूट पड़ गइल आ प्रणव मुखर्जी का समर्थन में लोग आपन आपन गठबन्हन के अनदेखी करत सामने आइल बा. एनडीए के शिवसेना आ जदयू प्रणव के समर्थन में बाड़ें त यूपीए के ममता बनर्जी अबहीं ले आपन मन नइखी बतवले.

Advertisements

जदयू सांसद निषाद राष्ट्रपति के चुनाव लड़ीहें

मुजफ्फरपुर से सांसद कैप्टन जयनारायण निषाद राष्ट्रपति चुनाव लड़े के घोषणा कइले बाड़न. उनुकर कहना बा कि आजु ले कवनो अति पिछड़ा के राष्ट्रपति नइखे बनावल गइल. निषाद अपना खातिर समर्थन जुटावे बदे सगरी सांसद आ विधायकन के चिट्ठी भेजले बाड़न.
हालांकि अबही ले उनुका अपना खातिर प्रस्तावको नइखे भेंटात. पार्टी के समर्थन मिले के कवनो सवाले नइखे.
एहसे बेहतर हाल पी ए संगमा के बा जिनका उम्मीदवारी खातिर जयललिता आ नवीन पटनायक के समर्थन सामने आइल बा बाकिर उनुकर पार्टी राकांपा साफ मना कर दिहले बिया. संगमा के दावेदारी एह आधार पर बा कि आजु ले कवनो आदिवासी नेता के राष्ट्रपति नइखे बनावल गइल.
एह आधार पर अबहीं बहुते तरह के उम्मीदवारी सामने आवे के अनेसा बा. सबहीं जानत बा कि एहसे कुछ होखे हवाखे वाला नइखे बाकिर कुछ दिन मीडिय में प्रचार त मिलिए जाई.
सबले बड़का अनेसा बा कि कहीं प्रणव मुखर्जी के राष्ट्रपति मत बनवा दे कांग्रेस सरकार. उनुका जइसन बिना रीढ़ के राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद, ज्ञानी जैल सिंह, प्रतिभा देवी सिंह पाटिल वगैरह के परंपरा में रही.