विनय आनंद अउर सुदीप पांडे क ‘खूनी दंगल’

भोजपुरी सुपर स्टार विनय आनंद आ सुदीप पांडे क जोरदार मारधाड़ से सजल रोमांटिक एक्शन भोजपुरी फिल्म ‘खूनी दंगल’ के निर्माण सुहानी सुहाना फिल्म्स के बैनर संजय कुमार करत बाड़ें आ प्रस्तुत करत बाड़े कुमार दिवाकर. निर्देशक हउवें जानल मानल निर्देशक श्रीधर शेट्टी. गीतकार राकेश निराला, संगीतकार राकेश त्रिवेदी, कथा लेखक सबा मुस्तफा, पटकथा लेखक सबा मुस्तफा अउर मोहम्मद रफी खान, संवाद लेखक मोहम्मद रफी खान, मारधाड़ निर्देशक हीमल, नृत्य निर्देशक केदार सुब्बा, कैमरा मैन श्रीनिवास आर.

फिल्म के मुख्य कलाकारन में विनय आनंद, सुदीप पांडे, अपूर्वा सिंह, दिव्या श्री, गोपाल राय, उदय श्रीवास्तव, जफर खान, दीपक आनंद, रोहित सिंह मटरू, मोहम्मद रफी खान, संजय कुमार, पुरुषोत्तम ओझा, निरुपमा जी, अर्जुन खोदकर अउर कयूम रजा के नाम बा.

एह फिल्म में पहिला बेर विनय आनंद एगो गाना गवले बाड़े. बाकी गायकन में उदित नारायण, कल्पना, विनोद राठौड़, इंदू सोनाली, अउर ममता राउत शामिल बाड़ी.


(शशिकांत सिंह रंजन सिन्हा के रपट)

Advertisements

सुदीप पाण्डेय के मिलल दू गो अवार्ड

सिनेमा भोजपुरी के एक्शन सितारा सुदीप पाण्डेय क पिछला दिने दू गो अवार्ड से सम्मानित कइल गइल. आर. के. एक्सलेंस अवार्ड में भोजपुरी के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के अवार्ड मशहूर संगीतकार श्रवण के हाथे आ आप की आवाज प्रेस मीडिया अवार्ड में सर्वश्रेष्ठ डायनामिक भोजपुरी अभिनेता क पुरस्कार दिहल गइल. सुदीप पाण्डेय भोजपुरी फिलिमन में लगातार अपना सफलता के डंका बजावत रहेलें.

सुदीप पांडे के जल्दिए रिलीज होखे वाली फिलिम हवे ‘कसम तिरंगा के‘ आ ‘गजब सिटी मारे सईयां पिछवाडे़’.


(प्रशान्त निशान्त के रपट)

सुदीप पाण्डे के ‘‘पुलिस फाइल्स’’

भोजपुरी सिनेमा के एक्शन सितारा सुदीप पाण्डे 12 मार्च से रिलांयस के चैनल “बिग मैजिक” पर अपराध के पड़ताल करत लउकीहें. बिग मैजिक के शो ‘‘पुलिस फाइल्स’’ के सुत्रधार बाड़न सुदीप पाण्डे. ई शो बिग मैजिक पर 12 मार्च से सोमार से बियफे के रोज रात नौ बजे से देखावल जाई. एह शो में बिहार, यु॰पी॰ आ उत्तराखण्ड से जुड़ल अपराधन के कहानी देखावल जाई.

एह बीच सुदीप पाण्डेय आजु काल्हु अपना नयकी भोजपुरी फिलिम ‘‘खुनी दंगल’’ के शुटिंग में व्यस्त बाड़न.


(प्रशांत निशांत के रपट से)

‘गजब सीटी मारे सईयां पिछवारे’ में सुदीप पाण्डेय-मोनिका बत्रा के जोड़ी

भोजपुरी के एक्शन सितारा सुदीप पाण्डेय आ नईकी अदाकारा मोनिका बत्रा के जोड़ी पदमावती पिक्चर्स के बैनर तले बनत निर्माता अनिल जी सिंकर के फिल्म ‘‘गजब सिटी मारे सईंया पिछवारे’’ में देखे के मिली. निर्देशक बलजीत सिंह के एह फिल्म में सुदीप आ मोनिका के लव एंगल बा आ एह दुनु जने पर एक से बढ़िके एक गरमागरम सीन आ गाना फिल्मावल गइल बा.

फिल्म के खास कलाकारन में सुदीप पाण्डेय, मोनिका बत्रा, मनोज द्विवेदी, सुप्रेरणा सिंह आ संजय पाण्डेय के नाम लिहल जा सकेला. गीत राजेश मिश्रा आ फणिन्द्र राव के आ संगीत छोटे बाबा के बा.


(प्रशांत निशांत के रपट)

सुदीप पाण्डेय से भ्रष्टाचार निवारण ब्यूरो पूछताछ कइलसि

हाल में प्रेस रिलीज जारी भइल रहुवे जवना में कहल गइल रहे कि भोजपुरी में निर्देशक डा॰राजकुमार चौधरी “अन्ना के आंधी” नाम के फिल्म बनावे जात बाड़े जवना के मुख्य अभिनेता रहीहें सुदीप पाण्डेय. एगारह अक्टूबर के रात में सुदीप पाण्डेय के एंटी करप्शन ब्यूरो उनुका घरे से क्राफोर्ड मार्केट में अपना क्राइम ब्रांच विभाग में ले जाके पूछताछ कइलसि आ अगिला दिने बारह बजे उनुका के छोड़ल गइल. अबही ई केहू नइखे बतावत कि सुदीप पाण्डेय के एसीबी काहे ले गइल रहे. का एह चलते कि ऊ बिहार के हउवें आ कि एह खातिर कि ऊ “अन्ना के आंधी” के नायक बने जात बाड़न ?

सुदीप पाण्डेय बेसी कुछ नइखन बतावत बाकिर कहलन कि पुलिस केहू से पूछताछ कर सकेले आ हर आदमी के चाहीं कि पुलिस से सहयोग करें, चाहे ऊ आम आदमी होखे भा कवनो सिनेमा स्टार, काहे कि ई सब कुछ आम आदमी के सुरक्षा खातिर कइल जाला. बाकिर इहो कहलन कि पुलिसिया पूछताछ उनका खातिर कवनो डरावना सपना जइसन रहुवे जवना के ऊ जिनिगी भर ना भुला पइहें.


(स्रोत : संजय शर्मा, खजाना विजन)

भोजपुरी सिनेमा में अन्ना

भोजपुरी में निर्माता डा॰ राजकुमार चौहान एगो फिलिम बनावे जात बाड़ें जवना के नाम राखल गइल बा “अन्ना के आँधी”. एह फिल्म के निर्देशन करीहें चन्द्रसेन सिंह. सुपरहिट एक्शन हीरो सुदीप पाण्डेय एह फिल्म के मुख्य भूमिका करीहें.
अन्ना के आँधी फिल्म के कहानी एगो डाक्टर के बा जेकर नाम ह डा॰ अन्ना आ ओकर आदर्शपुरुष हउवें अन्ना हजारे. डा॰ अन्ना अपना गाँव में भ्रष्टाचार के खिलाफत अन्ना हजारे के बतावल गाँधीवादी तरीका से करीहें आ भर गाँव के एह लक्ष्य खातिर जागरुक बना दीहें.

फिल्म का बारे में बतियात सुदीप पाण्डेय के कहना रहे कि ई एगो चुनौतीवाली भूमिका बा. हमनी का कोशिश करत बानी स कुछ संदेश देबे के. समाज के अन्ना हजारे जइसन लोगन के बहुते जरूरत बा आ मीडिया के आपन काम बढ़िया से करे के जवना से समाज में फइलल भठियरपन खतम कइल जा सको.

फिल्म के कहानी डा॰ राजकुमार चौहान के लिखल, संगीत अमन श्लोक के, कैमरा प्रिंस के, संवाद संजीत कुमार के, एक्शन अकबर शरीफ के आ नृत्यनिर्देशन अग्नेश के रही. फिल्म राजराशि फिल्म्स का बैनर में बनावल जाई.


(स्रोत : संजय बी॰ शर्मा)

अपने शर्त पर काम करेवाला कलाकार हउवन सुदीप पाण्डेय

बिहार के गया जिला के निवासी सुदीप पाण्डेय के फिल्मी कैरियर भोजपुरिया भईया से शुरु भइल रहे जवना के हैरी फर्नाण्डीज निर्देशित कइले रहले. सुदीप पाण्डेय मानेले कि संघर्ष का दौरान बहुत कुछ अइसन बा जवना से दोसरा लोग के प्रोत्साहन मिल सकेला बाकिर ऊ एह बारे में बात करल ना चाहसु. कहेले कि ऊ दिन भुलाईये दिहल नीमन होई. बढ़िया काम कइला का बावजूद उद्योग में कवनो हवा ना खड़ा कर पवला खातिर सुदीप के कहना बा कि ऊ थियेटर कलाकार हउवन आ अपना तरफ आइल हर काम ना सकार सकस. उनका अपने शर्त पर काम कइल नीक लागेला से स्वाभाविक बा कि वइसनका काम बहुत कमे मिली.

सुदीप पाण्डेय के इहो नइखे मालूम कि कवना कारण से उनकर अधिका फिलिमन में डबल रोल बा. इहाँ तक कि उनुकर पहिलको फिलिम में डबले रोल रहुवे. सुदीप कहेले कि एकर बेहतर जबाब निर्देशके लोग दे पाई. हालही में रिलीज फिल्म मि॰ तांगावाला में फेर सुदीप के डबर रोल बा आ आवे वाली फिलिम कसम तिरंगा के में त ऊ एके साथ दस किरदार करत लउकीहे.

भोजपुरी फिल्मोद्योग का बारे में बतियावत सुदीप कहेले कि भोजपुरी सिनेमा के सबले बड़ विडम्बना इहे बा कि अधिकतर फिल्म परिवारन के देखे लायक बनावल जाले जबकि परिवार मुश्किले से थियेटर ले चहुँपेले. दोसरे भोजपुरी सिनेमा में स्टार सिस्टम बन गइल बा जवन एकर विकास के राह रोकले बा. बाकिर एकर जिम्मेदारी ऊ निर्देशक आ निर्माता लोगन पर डालेले जे नयका अभिनेता के मौका देबे से हिचकेले. फिल्म के सही वितरणो एगो बड़हन समस्या बा जवना खातिर निर्माता आ वितरक लोग के मिल बइठ के एह समस्या के समाधान खोजे के पड़ी.

अपना माता पिता के बेहद सम्मान देबे वाला सुदीप पाण्डेय के शौक बा जिम में कसरत कइल आ खाली समय में दोस्तन का साथे गप्पबाजी कइल. साथही मौका मिले त राजनीति का मैदानो में उतरे के चहीहे सुदीप. उनुकर कहना बा कि देश समाज खातिर कुछ कइल चाहत होखी त एहले बढ़िया दोसर कवनो मंच ना हो सके.


(स्रोत – संजय भूषण पटियाला)